CTET EXAM ANALYSIS परीक्षा के बाद क्या कहना है छात्रों का।

ctet exam analysis: जनवरी 17 2024 को आज पूरे भारत में CTET EXAM कंडक्ट करवाएगा गया जिसमे किसी भी परीक्षा केंद्र पर अभी तक कोई अनियमितता की खबर बाहर नही आई है।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

जैसा कि विदित है कि सीटीईटी में 2 पेपर आयोजित होते है प्राइमरी के और दूसरा मिडिल के लिए।

वैसे तो हर बार प्राइमरी का पेपर फर्स्ट शिफ्ट में होता था और जो मिडिल का पेपर है वह दूसरी शिफ्ट में होता था परंतु इस बार केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड(CBSE) जो सीटीईटी की परीक्षा आयोजित करवाता है ने इसमें बदलाव कर सेकंड पेपर को पहले करवाया तथा जो पहला पेपर प्राइमरी का हुआ करता था उसको दूसरे नंबर पर करवाया

ctet exam के बाद एग्जाम को लेकर छात्रों की कई प्रकार की प्रतिक्रिया सामने आई है जिसके बारे में हम बात करेंगे।

CTET EXAM ANALYSIS PAPER 1st TGT , 2nd PGT

ctet exam paper का जो पहला पेपर सुबह की शिफ्ट में था वह मिडिल क्लास के लिए था हुआ। इसलिए इसमें सब्जेक्ट थे। किसी ने इंग्लिश चुना था तो किसी विद्यार्थी के द्वारा संस्कृत चुना गया था।

कई यूट्यूब चैनल तथा मीडिया बालो के द्वारा परीक्षार्थियों से इस विषय प्रश्न किए गए परंतु ज्यातर छात्रों का यही मानना है की पेपर कठिन नही था। जैसा हर बार आता रहा है पेपर का डिफिकल्टी लेवल वही रखा गया है। सभी प्रश्न लगभग सिलेबस से ही थे। सिलेबस से बाहर के प्रश्न परीक्षा में नही पूछे गए थे।

इसी प्रकार पेपर सेकंड जो कि प्राइमरी के लिए था। उसमे भी छात्रों का यही कहना है की पेपर मॉडरेट ही था। कठनाई का स्तर सामान्य ही रहा है जिससे भी थोड़ा अच्छे से ctet exam की तैयारी की है उसका पेपर निकल जाएगा।

कई परीक्षार्थियों का कहना है की पेपर को सॉल्व करने में टाइम की समस्या आई है। पेपर लैंथी बहुत था। प्रश्न बड़े बड़े थे जिन्हें पढ़ने में समय लग रहा था। जिससे पेपर के दौरान कई छात्रों को समय कम पड़ गया।

आपको बता दें की पेपर 2 शिफ्ट में था। पहला पेपर सुबह 9:30 बजे से 12 बजे तक तथा दूसरा पेपर दोपहर 2 बजे से 4:30 बजे तक हुआ। यानी की प्रत्येक पेपर 2:30 घंटे का था। जिसमे 150 प्रश्न पूछे गए थे।

कुल कितने परीक्षार्थी शामिल हुए CTET EXAM में।

कुल परीक्षार्थियों की बात करें। तो पेपर 1 टीजीटी में 9,58,193 परीक्षार्थी थे। वही सेंकड पेपर जो पेपर 2 पीजीटी का था उसमे 17 लाख 35 हजार 3 सो 33 विद्यार्थी परीक्षा में रहे। कुल परीक्षार्थी दोनो पेपर के मिलाकर देखा जाए तो इसकी संख्या 26,93,526 हो जाती है जो की बहुत बड़ा नंबर है लगभग 2.7 मिलियन परीक्षार्थियों का।

पेपर में पास होने के लिए सामान्य वर्ग के परीक्षार्थियों को 60 प्रतिशत मार्क्स लाने होते है यानी की 150 में 90 नंबर वही आरक्षित वर्ग के स्टूडेंट्स को 50 प्रतिशत नंबर लाने होते है यानी की 150 में से 82.5 नंबर होते है।

परीक्षा में किसी भी प्रकार की कोई माइनस मार्किंग नही होती है थोड़ी सी तैयारी करके ctet exam को आसानी से पास किया जा सकता है।

स्कोर कार्ड होता है लाइफ टाइम वैलिड

सीटेट के स्कोर कार्ड की वैध्यता लाइफटाइम हो गई है। यानी की एक बार आप सीटीईटी पास कर लेते है तो कभी भी किसी भी राज्य की या केंद्र की शिक्षक भर्ती में जहा सीटीईटी मांगा जा रहा है वहा पर सीटीईटी सर्टिफिकेट लगाकर एग्जाम दे सकते है और शिक्षक बन सकते है। पहले सीटीईटी सर्टिफिकेट के मान्यता केवल 7 वर्ष होती थी।

AKHILESH
Follow me
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *